11 बजे की जगह अब 2 बजे होगी दोनों सदनों की बैठक, आज ही संसद सत्र खत्म करने पर हो सकता है फैसला

Facebook
Google+
https://newsquesindia.com/11-%E0%A4%AC%E0%A4%9C%E0%A5%87-%E0%A4%95%E0%A5%80-%E0%A4%9C%E0%A4%97%E0%A4%B9-%E0%A4%85%E0%A4%AC-2-%E0%A4%AC%E0%A4%9C%E0%A5%87-%E0%A4%B9%E0%A5%8B%E0%A4%97%E0%A5%80-%E0%A4%A6%E0%A5%8B%E0%A4%A8%E0%A5%8B">
Twitter
LinkedIn
INSTAGRAM
SOCIALICON

नई दिल्ली। आज देश में कोरोना वायरस के मद्देनज़र संसद सत्र खत्म करने का फैसला लिया जा सकता है। राजधानी दिल्ली में इस वक्त लॉकडाउन है और यह लॉकडाउन फिलहाल 31 मार्च तक के लिए लगाया गया है। अब दिल्ली में लॉकडाउन के बीच आज सुबह 11 बजे के बजाय दोपहर 2 बजे से संसद के दोनों सदनों में बैठक होगी। बताया जा रहा है कि इसी बैठक में संसद सत्र आज ही खत्म करने पर सरकार विचार कर सकती है।
आपको बता दें कि कोरोना वायरस के ख़तरे के मद्देनज़र देशव्यापी बन्द के बाद सबसे बड़ा सवाल है कि क्या ऐसी स्थिति में संसद का मौजूदा बजट सत्र जल्द खत्म हो जाएगा। पहले तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि संसद सत्र को पहले खत्म करने से देश में लोगों को घबराहट हो सकती है। इसी कारण पहले इसे खत्म नहीं किया गया।
अब कोरोना का प्रकोप देश पर लगातार बढ़ता जा रहा है। अब बदली हुई परिस्थितियों के मद्देनजर सरकार संसद का सत्र जल्दी ही खत्म करने पर विचार कर सकती है।आज जब संसद सत्र की कार्यवाही फिर शुरू होगी तो संसद में शिवसेना, टीएमसी, एनसीपी और समाजवादी पार्टी के सांसद मौजूद नहीं रहेंगे। इन तीनों पार्टियों ने अपने सांसदों से संसद नहीं जाने को कहा है।
यहां ये बता दें कि आज संसद के बज़ट सत्र में लोकसभा में वित्त विधेयक पारित करवाया जाएगा। बजट में सरकार की ओर से पेश किए गए टैक्स से जुड़े प्रस्तावों पर संसद की मुहर के लिए वित्त विधेयक पारित करवाया जाता है। यह देखना दिलचस्प होगा कि क्या सरकार 31 मार्च को खत्म हो रहे वित्तीय वर्ष 2019-20 को आगे बढ़ाने पर भी कोई फैसला किया जायेगा?
और वहीं राज्यसभा की कार्यवाही भी दोपहर 2 बजे शुरु हो1गी। देश में घरेलू उड़ाने बेहद कम होने और ट्रेनें रद्द होने के कारण आवागमन के बेहद सीमित साधन बचे है। ऐसे में अपने-अपने क्षेत्रों में गये सांसद दिल्ली नहीं लौट पाएंगे। नतीजा बहुत कम संख्या में सांसदों की उपस्थिति संसद में दर्ज होगी। अभी तक राज्यसभा का कोई एजेंडा तैयार नहीं है। लिहाजा कयास यही लगाये जा रहे है कि उपस्थित सांसदों के बीच चर्चा कोरोना संकट को लेकर ही होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *