1 अमरूद 100 रुपये का हाथों हाथ बिक रहा है, निराला है इसका स्वाद

Facebook
Google+
https://newsquesindia.com/1-%E0%A4%85%E0%A4%AE%E0%A4%B0%E0%A5%82%E0%A4%A6-100-%E0%A4%B0%E0%A5%81%E0%A4%AA%E0%A4%AF%E0%A5%87-%E0%A4%95%E0%A4%BE-%E0%A4%B9%E0%A4%BE%E0%A4%A5%E0%A5%8B%E0%A4%82-%E0%A4%B9%E0%A4%BE%E0%A4%A5-%E0%A4%AC">
Twitter
LinkedIn
INSTAGRAM
SOCIALICON

नई दिल्ली। कंडेला गाँव भाव प्रति किलो नहीं बल्कि प्रति अमरूद मिल रहे हैं। एक अमरूद की कीमत 100 रुपये है। ये सुनने में अजीब लगता है। इतनी महंगी तो सेब भी नहीं है। लेकिन यह कोई बाजार में मिलने वाला सामान्य अमरूद नहीं है। एक अमरूद का वजन 800 ग्राम से एक किलो तक है। किसान सुनील कंडेला ने अपने खेत में दो साल पहले तीन एकड़ में अमरूद का बाग लगाया था। जिसमें से एक एकड़ में थाईलैंड की किस्म के अमरूद लगाए हैं।
इस साल भारी मात्रा में अमरूद का उत्पादन हुआ। न मार्केटिंग करनी पड़ी और न ही बेचने के लिए मंडी जाना पड़ा। खेत से ही अमरूद खरीदकर ले जाने वालों की होड़ लगी है। आसपास के गांवों के अलावा दूसरे जिलों व राज्यों से भी लोग आ रहे हैं।
ऑर्गेनिक कल्याण मंच के संस्थापक विनोद मेहता के नेतृत्व में चार सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल सुनील के खेत में पहुंचा। इसमें विनोद शर्मा,राजेंद्र सिंह व नरवीर चौहान शामिल थे। प्रतिनिधिमंडल ने ऑर्गेनिक तरीके से तैयार किए गए। अमरूद के फलों की प्रक्रिया समझी। वे अपने साथ 10 किलो अमरूद लेकर गए हैं। जिससे वहां के लोगों को इसके आकार व स्वाद के बारे में बता सकें।
सुनील ने यह बताया है कि उसने पौधे पर लगे फलों को ट्रिपल प्रोटेक्शन फॉम से कवर किया। इससे फल पर गर्मी, सर्दी,धूल व बीमारियों का सीधा असर ना हो। इससे अमरूद का साइज भी काफी बढ़ गया। इसमें ना तो किसी तरह के स्प्रे का प्रयोग किया गया है और न ही रासायनिक खाद का। खेत में घास-फूस व पौधों के पत्तों को गला कर तैयार की गई खाद का प्रयोग करते हैं।
सुनील के बाग को देखने के लिए पानीपत से कृषि विभाग की टीम पहुंची। और अमरूद की क्वालिटी देखी। और उन्होंने बताया कि हरियाणा में पहली बार इस किस्म का अमरूद देखा गया है। और स्वाद भी अच्छा है। टीम अपने साथ बाग से 10 किलो अमरूद भी लेकर गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *