शिक्षक हित में रूटा का साझा संघर्ष और तेज होगा- रूटा अध्यक्ष डॉ. राहुल चौधरी

Facebook
Google+
https://newsquesindia.com/%E0%A4%B6%E0%A4%BF%E0%A4%95%E0%A5%8D%E0%A4%B7%E0%A4%95-%E0%A4%B9%E0%A4%BF%E0%A4%A4-%E0%A4%AE%E0%A5%87%E0%A4%82-%E0%A4%B0%E0%A5%82%E0%A4%9F%E0%A4%BE-%E0%A4%95%E0%A4%BE-%E0%A4%B8%E0%A4%BE%E0%A4%9D">
Twitter
YOUTUBE
PINTEREST
LinkedIn
INSTAGRAM
SOCIALICON

रूटा अध्यक्ष डॉ. राहुल चौधरी बोले- रजिस्ट्रार एवं शिक्षकों के बीच हिंसा की अशोभनीय घटना के असली जिम्मेदार यथास्थिति के पोषक अवसरवादी शिक्षक नेता हैं, शिक्षक हित में रूटा का साझा संघर्ष और तेज होगा।

राजस्थान विश्वविद्यालय में 14 अक्टूबर को रजिस्ट्रार एवं शिक्षकों के बीच हिंसा की अशोभनीय घटना के असली जिम्मेदार यथास्थिति के पोषक अवसरवादी शिक्षक नेता हैं। रूटा को कमजोर नहीं होने देंगे।शिक्षक हित में रूटा का साझा संघर्ष और तेज होगा। विश्व विद्यालय की स्वायत्तता पर अतिक्रमण नहीं सहेंगे। समस्या का समाधान संवाद एवं शांतिपूर्ण संघर्ष के जरिये होना चाहिए,हिंसा के जरिये नहीं। यथास्थिति एवं वर्चस्व की पोषक ताकतें अच्छा काम करने वाले कुलपति एवं अधिकारियों को भी पसंद नहीं करती। येनकेन प्रकारेण अपना वर्चस्व कायम रखना चाहती है। शिक्षक हित में रूटा के साझा प्रयास भी इन्हें कतई पसंद नहीं है। इसलिए नाटकीय अंदाज में ये शिक्षक हितैषी होने का ड्रामा करते रहते हैं। कथित गांधीवादी होने का ढोंग करने वाले ये स्वार्थी तत्व अपने निजी हितों के लिए हिंसा का सहारा लेते हैं। कुलपति से शिक्षक समस्याओं के जल्द समाधान का आश्वासन मिल गया तब भी इन्होंने विश्वविद्यालय को बदनाम करने वाली 14 अक्टूबर की इस अशोभनीय घटना को अंजाम दिया। लेकिन ये अपने मकसद में सफल नहीं होंगे। हमने शिक्षक एकता कायम शिक्षक हित में पुरजोर प्रयास किये हैं,आगे भी करते रहेंगे। ये विचार आज की वेबिनार के मुख्य वक्ता राजस्थान विश्वविद्यालय शिक्षक संघ के अध्यक्ष राहुल चौधरी ने व्यक्त किए। वेबिनार का आयोजन किया
शिक्षा बचाओ आंदोलन राजस्थान के प्रदेश संयोजक एवं रूक्टा प्रांतीय संयुक्त सचिव डॉ. रमेश बैरवा ने ज़ूम एप से किया। वेबिनार का विषय ‘राजस्थान विश्वविद्यालय में 14 अक्टूबर की हिंसा की अशोभनीय घटना की हकीकत एवं उसके बाद का घटनाक्रम था।
वेबिनार के विशिष्ट वक्ता राजस्थान विश्वविद्यालय में ‘सक्रिय संघर्षशील शिक्षक मंच’ के संयोजक डॉ.गिरधारी लाल मीणा ने आक्रोश व्यक्त किया कि आर यू की हिंसा की इस शर्मनाक घटना के पीछे विश्वविद्यालय में एक खास वर्ग के जातिवादी वर्चस्व को मिली चुनौती भी है। जातिवादी वर्चस्व एवं अवसरवादी ताकतों के अवरोध के बाद भी पूर्व कुलपति देवस्वरूप के अथक प्रयासों से 2013 में शिक्षक भर्ती हुई जिसमें पहली बार वंचित तबके के लोगों को समुचित संरक्षण के साथ विश्वविद्यालय में शिक्षक पद पर भर्ती किया गया। उसके बाद से ही जातिवाद एवं अवसरवाद की ताकतों को चुनौती मिलना शुरू हो गई। आर यू में सक्रिय शिक्षक कार्यकर्ता डॉ.लाधू राम ने बताया कि 14 अक्टूबर की यह अशोभनीय घटना रूटा एवं शिक्षकों की एकता को कमजोर करने का कुत्सित प्रयास है। यह पूर्व नियोजित था। यह येनकेन प्रकारेण दशकों से रूटा को हथियाये बैठे यथास्थितिवादी एवं अवसरवादी ताकतों द्वारा डॉ राहुल चौधरी के नेतृत्व में शिक्षक हित में रूटा के साझा प्रयासों को नजरअंदाज करने का प्रयास है,जिसमें वो कतई सफल नहीं होंगे। डॉ राहुल चौधरी के उच्चतम न्यायालय तक न्यायिक संघर्ष के कारण ही रूटा के चुनाव संभव हो सके। दिसम्बर 2019 में हुए रूटा के चुनाव में डॉ राहुल चौधरी के नेतृत्व में लोकतांत्रिक ताकतों की विजय के बाद से ही वर्चस्व की ताकतों को बेचैनी हो गई थी। तब से ही डॉ विनोद शर्मा एवं डॉ जयंतसिंह के नेतृत्व में अवसरवादी ताकतें रूटा को कमजोर करने का प्रयास करती रही है।

विषय प्रवर्तन करते हुए वेबिनार आयोजक डॉ रमेश बैरवा ने चिंता प्रकट की है कि इस घटना से सिर्फ राजस्थान विश्वविद्यालय के शिक्षक ही नहीं बल्कि तमाम शिक्षा जगत चिंतित है। इसकी सघन एवं निष्पक्ष जांच होनी चाहिए। विश्वविद्यालय की स्वायत्तता का ध्यान रखते हुए आंतरिक जांच समिति गठित की जाए।

वेबिनार में सभी प्रतिभागियों ने निलंबित शिक्षकों को बहाल करने, परिवीक्षा काल पूर्ण कर चुके योग्य शिक्षकों का जल्द स्थायीकरण करने, हिंसा के लिए जिम्मेदार लोगों के खिलाफ कड़ी कानूनी कार्यवाही करने, डॉ राहुल चौधरी के नेतृत्व में शिक्षक हित में सक्रिय रूटा को कमजोर करने वाली अवसरवादी ताकतों के दुष्प्रचार से बचने तथा येन केन प्रकारेण आर यू में यथास्थिति के पोषक जातिवादी, अवसरवादी एवं सत्तापरस्त शिक्षक नेताओं का विरोध करने का समर्थन किया है। साथ ही रूक्टा एवं शिक्षा बचाओ आंदोलन ने डॉ राहुल चौधरी के नेतृत्व में रूटा के साझा संघर्ष का पुरजोर समर्थन किया।

वेबिनार में रूक्टा केंद्रीय कार्यकारिणी सदस्य डॉ रामनारायण मीणा,राजस्थान शिक्षक संघ शेखावत के प्रदेश अध्यक्ष महावीर सिहाग,पूर्व आयकर आयुक्त भागचंद मीणा,डॉ सीताराम, डॉ महेश कुमार, डॉ शंकर लाल मीणा,डॉ वीरेंद्र यादव,डॉ उम्मेदसिंह, राजस्थान, डॉ सुनीता,डॉ शिवचरण चेड़वाल,डॉ सुंदर बसवाल,डॉ मल्लूराम मीणा सहित राजस्थान विश्वविद्यालय एवं कॉलेज शिक्षकों ने बड़ी संख्या में सहभागिता की।

NewsQues India is Bilingual Indian daily e- Magazine. It is published in New Delhi by NewsQues India Group. The tagline of NewsQues India is " Read News, Ask Questions".

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *