मेट्रो में सफर करने वालों के लिए एक जरूरी खबर, हो जाए चोरनियो से सावधान

Facebook
Google+
https://newsquesindia.com/%E0%A4%AE%E0%A5%87%E0%A4%9F%E0%A5%8D%E0%A4%B0%E0%A5%8B-%E0%A4%AE%E0%A5%87%E0%A4%82-%E0%A4%B8%E0%A4%AB%E0%A4%B0-%E0%A4%95%E0%A4%B0%E0%A4%A8%E0%A5%87-%E0%A4%B5%E0%A4%BE%E0%A4%B2%E0%A5%8B%E0%A4%82">
Twitter
LinkedIn
INSTAGRAM
SOCIALICON

नई दिल्ली। अब दिल्ली-एनसीआर की लाइफलाइन बन चुकी दिल्ली मेट्रो रेल निगम की ट्रेनों में यदि आप भी सफर करते हैं तो सावधान हो जाइए। क्योंकि जेबकतरों के साथ महिलाएं भी शामिल हो गई हैं। सुरक्षा बल चोरी की घटनाओं पर लगाम लगाने के लिए बीच-बीच में कार्रवाई भी करते हैं। 
ताजा मामले में बाराखंभा रोड और मंडी हाउस मेट्रो स्टेशन के बीच मेट्रो में चोरी करने वाली चार महिलाओं के गिरोह को दिल्ली पुलिस की मेट्रो यूनिट ने पकड़ा है। आरोपित महिलाओं की पहचान राजेश कैंप,झुग्गी फरीदपुर,आनंद पर्वत निवासी कविता,नीता,सोमता और उर्मिला के रूप में हुई है।
दिल्ली पुलिस से मिली जानकारी मुताबिक 4 दिसंबर को फरीदाबाद के डबुआ कॉलोनी निवासी अनुराग मिश्र ने मेट्रो पुलिस को चोरी की शिकायत दी थी। शिकायत में कहा गया कि वे 2,15000 रुपये लेकर बाराखंभा दिल्ली स्थित अपने कार्यालय से सरिता विहार में एक सीए के पास जमा करने के लिए निकले थे । दोपहर बाद 3 बजे जब वे मंडी हाउस मेट्रो स्टेशन पहुंचे तभी उन्होंने देखा कि बैग की चेन खुली हुई थी और उसमें रखे 2,15000 रुपये गायब हैं। उन्होंने तुरंत ऑनलाइन ई-एफआइआर दर्ज की।
उन्होंने पुलिस को यह बताया कि उन्हें कुछ महिला यात्रियों पर संदेह था। जो मेट्रो के अंदर यात्रा करते समय उनके बहुत करीब खड़ी थीं। मामले की छानबीन में चार महिलाओं के एक गिरोह को शक के घेरे में लिया। ये महिलाएं पहले भी चोरी की घटनाओं में शामिल रही थीं। महिलाओं के बारे में टीम को सूचना मिली कि इस समय ये महिलाएं आनंद पर्वत में कहीं रह रही हैं। सूचना के आधार पर 5 दिसंबर को उन्हें शादीपुर मेट्रो स्टेशन के पास से पकड़ा गया। पूछताछ के बाद चोरी किए गए रुपये व अन्य सामान भी बरामद किए गए।आपको बता दें कि साल 2017 में केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल ने जितने जेबकतरों को दबोचा उनमें 90 फीसद महिलाएं थीं। साल 2018 में मेट्रो में चोरी के 497 मामले दर्ज किए गए थे। जिनमें महिलाओं की भूमिका ही प्रमुख थी।

मेट्रो में जेबकतरों को आप उनके हावभाव से पहचान सकते हैं।

महिलाएं ग्रुप में रहती हैं फिर लोगों को घेरकर उनकी पॉकेट मार लेती हैं।

महिला पॉकेटमार अक्सर ऐसे मेट्रो स्टेशन चुनते हैं ।जो इंटरचेंज होते हैं। क्योंकि यहां पर तेज आवागमन के दौरान चोरी करना आसान होता है।

पुरुष चोर अक्सर महिलाओं के कपड़े पहनकर महिला कोच में घुस जाते हैं। ऐसे लोगों से भी सावधान रहें।

चोरनियां सलवार-सूट पहन,सिर पर पल्लू ढककर हाथ में बच्चा पकड़े रहती हैं फिर अचानक ये चोर भीड़ का फायदा उठाकर सावधानी से पर्स का सामान चोरी कर लेती हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *