महिलाओं का सम्मान हम सबकी जिममेदारी

Facebook
Google+
https://newsquesindia.com/%E0%A4%AE%E0%A4%B9%E0%A4%BF%E0%A4%B2%E0%A4%BE%E0%A4%93%E0%A4%82-%E0%A4%95%E0%A4%BE-%E0%A4%B8%E0%A4%AE%E0%A5%8D%E0%A4%AE%E0%A4%BE%E0%A4%A8-%E0%A4%B9%E0%A4%AE-%E0%A4%B8%E0%A4%AC%E0%A4%95%E0%A5%80">
Twitter
LinkedIn
INSTAGRAM
SOCIALICON
भारतीय लोग कश्मीर से धारा 370 के हटने की खुशी मना रहे हैं माननीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी के इस ऐतिहासिक फैसले का देशवासियों द्वारा स्वागत भी किया जा रहा हैं । इस धारा को लागू करने के पक्षधर स्वयं संविधान निर्माता डॉ.भीमराव भी नहीं थे चूंकि ये धारा बहुत अहम अधिकारों का हनन कर रही थी । भारत के उच्च न्यायलयों के फ़ैसले भी यहाँ मान्य नहीं । किसी को ज़मीन खरीदने का अधिकार नहीं था । पूर्णतः स्वायत्तता कश्मीर को थी । खासतौर से मुस्लिम महिलाओं के अधिकारों का जो कानून उन्हें मिलने चाहिए थे काफ़ी हद तक नहीं मिल सके जो भारतीय संविधान में भारतीय महिलाओं को मिले हैं ।

कश्मीर में शरीयत कानून महिलाओं पर लागू हैं यदि वे किसी बाहरी व्यक्ति को विवाह हेतु चयन करती हैं तो नागरिकता से वंचित कर दी जाती हैं । इस स्वागत योग्य फ़ैसले का परिणाम देखा गया कि जिन्हें हम हमारे देश का नवनिर्माण करने वाले युवा समझते रहे थे वे कुछ ओर ही परिकल्पना कर रहे हैं ये धरती के स्वर्ग कश्मीर का नरकीय ड्राफ्ट दिमाग़ में बनाये बैठे हैं । लगातार देश को शर्मसार करने वाली बातें उगल रहे हैं । जिस प्रकार कुत्ते की लार हड्डी देखकर टपकती हैं । वैसे ही मर्दो की फितरत कश्मीरी लड़कियों देख कर लगी ।

युवाओं ने सोशल मीडिया पर कश्मीरी लड़कियों को लेकर हुड़दंग मचा रखा हैं । बस चाहते अभी हाथ बढ़ा खींच लें वो काला बुर्का और बुर्का उतार कर अभी उस देह को हमबिस्तर बना डालें । डल झील में स्वर्गानुभूति कर स्वर्गवासी हो जाये । घुसपैठियों की भाँति हमला कर दे सभी स्त्रियों का चीरहरण कर नंगा कर डालें । दुशासन बन रच डालें महाभारत और कर डालें उस स्वर्गधरा को रक्त रंजित । अरे , मनहूसियत लिए पैदा लोगों कभी तो हम स्त्रियों के लिए अच्छा सोच लिया करो । सोचो जरा वहाँ गौरीबदन नाज़नीन लड़कियों के मुल्ले भाई भी तुम्हारी माँ -बहनों के साथ ये करें , जो तुम खुद ही कर रहे हो तो कैसा लगेगा ? खून खोल उठा ना , तो उनकी रंगो में पानी थोड़ी बहता हैं । जिस कद्दर तुम्हें अपनी बहनें , माँ अजीज़ हैं उतनी उन्हें भी हैं समझे । खैर मर्द तो ये भी हैं ही आखिकार कुछ ज्यादा अच्छी जहनियत तो इस मामले में उनकी भी नहीं । यदि कुछ करना हैं तो ये करो कि बेआबरू देश की बहन बेटियों को बचा लो । वास्तव में मर्द हो तो पहले अपने घर में लगी बलात्कारो की आग को रोक लो, वाकई मर्द हो तो रोक क्यों नहीं लेते देहज के अभाव में जलती , फाँसी खाती , गला घोंट मर रही अपने देश की औरतों को, बचा लो उन दूध मुँह बच्चियों को जिनको माँ के बग़ल से उठा रंजिश में रेप कर दिया जाता हैं , बचा लो । ये जिस्मानी लोलुपता लें डूबे इससे पहले कुछ अच्छा भी सोच लो । देश को गौरान्वित नहीं कर सकते तो कोई हक नहीं कि तुम उसे नीचा दिखाओ । राष्ट्रनिर्माण से भटक ये वीर्य को स्त्री पर आज़मा ने का अचूक हथियार बनाना छोड़ दो । ऐसी घृणिततम मानसिकता आपकी परवरिशो पर भी सवालिया निशान लगाती । देश को भी अपमानित करती । कश्मीरी महिलाएँ भी किसी के घर की इज्ज़त हैं अपनी भद्दी टिप्पणियाँ बंद कर दें ।

वो भी किसी के घर की इज्ज़त हैं किसी की बहन , बेटी हैं ।अपशब्दों का प्रयोग ना करें । याद रहे आसिफ़ केस में भी न्याय की गुहार में भारतीय स्त्रियों साथ थी और आगे भी किसी भी स्त्री की अस्मिताओं को रौंदने की बात हुई तब भी हम भारतीय महिलाएं मजबूती से उनके साथ रहेंगी । देश में शान्ति का माहौल बनाये रखे । इस निर्णय का स्वागत कर उनमें अपने प्रति विश्वास जगाये कि हम आपके साथ मजबूती से खड़े हैं । हम सब भारतीय हैं ।

डॉ .राजकुमारी
NewsQues India is Bilingual Indian daily e- Magazine. It is published in New Delhi by NewsQues India Group. The tagline of NewsQues India is " Read News, Ask Questions".

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *