भारत में करें अबसे काले टमाटर की खेती,रामबाण इलाज है शुगर के मरीजों के लिए

Facebook
Google+
https://newsquesindia.com/%E0%A4%AD%E0%A4%BE%E0%A4%B0%E0%A4%A4-%E0%A4%AE%E0%A5%87%E0%A4%82-%E0%A4%95%E0%A4%B0%E0%A5%87%E0%A4%82-%E0%A4%85%E0%A4%AC%E0%A4%B8%E0%A5%87-%E0%A4%95%E0%A4%BE%E0%A4%B2%E0%A5%87-%E0%A4%9F%E0%A4%AE">
Twitter
LinkedIn
INSTAGRAM
SOCIALICON

आपसे अगर कोई पूछता है। कि क्या आपने कभी काले टमाटर के बारे में सुना है या देखा है। तो ज्यादातर लोगों का जवाब आपको नहीं में मिलेगा। अपने आप में खास इस टमाटर को काफी पसंद किया जा रहा है और अब इसके बीज भारत में भी उपलब्ध हो गए हैं। अंग्रेजी में इसे इंडि‍गो रोज़ टोमेटो कहा जाता है। भारत में पहली बार काले टमाटर की खेती होने जा रही है।
हिमांचल प्रदेश के सोलन जिले के ठाकुर अर्जुन चौधरी बीज विक्रेता हैं। अर्जुन चौधरी के पास काले टमाटर के बीज उपलब्ध हैं। उन्होंने बताया,कि उन्होंने काले टमाटर के बीज ऑस्ट्रेलिया से मंगवाए हैं। इसकी खेती भी लाल टमाटर की तरह ही की जाती है।
इसके लिए कुछ अलग से करने की जरूरत नहीं होगी। उन्होंने यह भी बताया,कि अभी तक भारत में काले टमाटर की खेती नहीं की जाती है।इस साल से पहली बार इसकी खेती की जाएगी। काले टमाटर के बीज का एक पैकेट जिसमें 130 बीज होते हैं 110 रुपए का मिलता है।
काले टमाटर की नर्सरी सबसे पहले ब्रिटेन में तैयार की गई थी। लेकिन अब इसके बीज भारत में भी उपल्बध हैं। किसान इसके बीज ऑनलाइन भी खरीद सकते हैं।
अर्जुन चौधरी ने इसकी खासियत बताते हुए कहा, इसकी खास बात यह है कि इसकों शुगर और दिल के मरीज भी खा सकते हैं। यह बाहर से काला और अंदर से लाल होता है। इसको कच्‍चा खाने में न ज्यादा खट्टा है और न ज्यादा मीठा,इसका स्वाद नमकीन जैसा है।
यह बाहर से काला और अंदर से लाल होता है।
यह टमाटर गर्म क्षेत्रों के लिए अच्छे से उगाया जा सकता है। ठंढे क्षेत्रों में इसे पकने में दिक्कत होती है।अर्जुन चौधरी बताते हैं। क्योंकि यह टमाटर भारत में पहली बार उगया जा रहा है इस लिए इसके रेट भी अच्छे मिलेंगे।
इसको पकने में करीब चार महीने का समय लगता है।
उन्होंने बताया कि जनवरी महीने में इसकी नर्सरी की बुवाई की जा सकती है और मार्च के अंत तक इसकी नर्सरी की रोपाई की जा सकती है। यहा टमाटर लाल टमाटर के मुकाबले थोड़ा देर से होता है। लाल टमाटर करीब तीन महीने में पक कर निकलना शुरू हो जाता है।जबकि इसको पकने में करीब चार महीने का समय लगता है।
अगर आप शुगर से लड़कर थक चुके हैं तो काला टमाटर आपके लिए रामबाण साबित हो सकता है। इस टमाटर को जेनेटिक म्यूटेशन के द्वारा बनाया गया है। काले टमाटर में फ्री रेडिकल्स से लड़ने की क्षमता होती है। फ्री रेडिकल्स बहुत ज्यादा सक्रिय सेल्स होते हैं जो स्वस्थ सेल्स को नुकसान पहुंचाते हैं। इस तरह ये टमाटर कैंसर से रोकथाम करने में सक्षम है।
ये टमाटर आंखों के लिए भी बहुत फायदेमंद हैं। ये शरीर की विटामिन ए और विटामिन सी की जरुरत को पूरा करता है। विटामिन ए आंखों के लिए बहुत फायदेमंद होता है।अगर आप नियमित रूप से काले टमाटरों का सेवन करते हैं तो आप दिल से जुड़ी बीमारियों से भी बचे रह सकते हैं। इसमें पाया जाने वाला एंथोसाइनिन आपको हार्ट अटैक से भी बचाता है और आपके दिल को सुरक्षा प्रदान करता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *