धुम्रपान से आजादी

Facebook
Google+
https://newsquesindia.com/%E0%A4%A7%E0%A5%81%E0%A4%AE%E0%A5%8D%E0%A4%B0%E0%A4%AA%E0%A4%BE%E0%A4%A8-%E0%A4%B8%E0%A5%87-%E0%A4%86%E0%A4%9C%E0%A4%BE%E0%A4%A6%E0%A5%80">
Twitter
LinkedIn
INSTAGRAM
SOCIALICON

अभी अभी पंद्रह अगस्‍त आजादी का दिवस मनायाऔर हम मतवालो ने आजादी के तराने गा कर आकाश गुंजायमान कर दिया पर इस आजादी के जश्‍न मे कुछ प्रश्‍न यक्ष हो गए। तंबाकू की लत पर सीधा सीधा प्रश्‍न है कि अगर इसकी लत पड जाए तो उसे छोड़ना आसान नहीं होता। यही वजह है कि जो लोग सिगरेट के आदतन हो गए तो वाकई आप एक तरह की गुलामी के फेर मे आ गए, लेकिन क्‍या आपको पता है कि जब आप वाकई में धुम्रपान छोड़ते हैं तब क्‍या क्‍या महसूस होता है? सिगरेट छोड़ने का आपका फैसला आगे चलकर आपकी स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद साबित होगा।लेकिन सिगरेट छोड़ने और लत से छुटकारा पाने के दौरान सिर दर्द और घबराहट से जूझना पड़ता है. यही नहीं स्‍वभाव मे भी आकस्‍मिक परिवर्तन भी होते हैं और कई बार अवसाद तक जकड लेता है। ऐसे मे हम परिवर्तन के लिए तैयार करते समय मरीज को मनोरूप से भी तत्‍पर करे कि एक बार जब आप सिगरेट छोड़ने के मानस बनाते है तो लगभग 20 मिनट बाद आपका रक्‍त दाब व नाडी(ब्‍लड प्रेशर और पल्‍स रेट) सामान्‍य हो जाती है। आपके शरीर का तापमान भी सामान्‍य होने लगता है। आपके सिगरेट छोडने के आठ घंटे के अंदर आपके शरीर के खून में निकोटीन और कार्बन मोनोऑक्‍साइड की मात्रा आधी रह जाती है।आपके खून में ऑक्‍सीजन लेवल भी नॉर्मल होने लगता है। इसी समय आपको सिगरेट पीने की तड़प होती है। जैसे-जैसे आपके शरीर में निकोटीन की मात्रा घटती जाती है वैसे-वैसे आप इसके लिए तड़पने लगते हैं। ऐसे में सिगरेट से अपना ध्‍यान हटाने के लिए या तो पानी पीएं या चुइंग गम चबाएं या अलसी या सौफ भी चबाया जा सकता है,इलायची लोंग भी लिए जा सकते है। 12 घंटों तक अगर आपने सिगरेट या तंबाकू का सेवन नहीं किया है तो अब तक आपके शरीर में मौजूद कार्बन मोनोऑक्‍साइड नॉर्मल हो जाएगा। इससे आपके दिल का तनाव भी कम होने लगेगा। दरअसल, खून में जब कार्बन मोनोऑक्‍साइड बढ़ने लगता है तब शरीर के ऑक्‍सीजन लेवल को बनाए रखने के लिए दिल को ज्‍यादा मात्रा में खून पंप करना पड़ता है। जो लोग नियमित सिगरेट पीते हैं वे सूंघने और स्‍वाद के मामले में कच्‍चे होते हैं. दरअसल, सिगरेट उन कोशिका उत्‍तको ( सेल्‍स ) और नसों को नुकसान पहुंचाती है जो सूंघने और स्‍वाद को महसूस करने के लिए जिम्‍मेदार हैं।

सिगरेट छोड़ने के बाद दो दिनों में ये नसें फिर से सामान्य होने लगेगी। आपके शरीर को टॉक्‍सिन यानी कि जहरीले तत्‍वों से आजादी मिलने लगती है और सिगरेट की वजह से आपके फेफड़ों में मौजूद कफ भी कम हो जाता है। शरीर में मौजूद निकोटीन के तत्‍व भी पूरी तरह से गायब हो जाते हैं।यही वो समय है जब आप सबसे ज्‍यादा परेशान होने लगते हैं और आपका मन सिगरेट पीने के लिए ललचाने लगता है।यही नहीं आपको चक्‍कर आने लगते हैं, बेचैनी बढ़ने लगती है और आप बुरी तरह थक जाते हैं। सिगरेट छोड़ने के तीन दिन बाद मूड मे उतार चढाव और चिड़चिड़ाहट चरम पर होती है।आपका शरीर सब कुछ सामान्‍य करने की कोश‍िश कर रहा होता है। ऐसे में सिर में तेज दर्द और चिडचिडाहट होने लगती है। यही वो समय है जब आप फिर से सिगरेट पीने के बारे में सोचना शुरू कर देते हैं।
दो हफ्तों और तीन महीनों में
इस दौरान आपका स्‍टैमिना बढ़ने लगता है। वर्क आउट करने और भागने में आपके फेफड़ें आपका ज्‍यादा साथ निभाने लगते हैं।आपके शरीर में ब्‍लड फ्लो बेहतर होने लगता है और हार्ट अटैक का खतरा भी कम हो जाता है। हालांकि आपका कठिन समय बीत गया होता है, लेकिन फिर भी कभी-कभी सिगरेट पीने का मन करने लगता है। कभी-कभी धुम्रपान छोड़ने पर आपको सिगरेट के साथ-साथ खाने की भी तलब होने लगती है।नतीजतन आप ज्‍यादा खाते हैं और वजन बढ़ने लगता है। इसलिए सिगरेट और तंबाकू छोडने की प्रकिया मे आने वाले उतार चढाव से अवगत रहे तो शायद हम अपनी ईच्‍छाशक्‍ति को और अधिक प्रबल कर सकते है। इस उतार चढाव को हम एक फिल्म के रूप मे दिखाए और बताए कि एक युद्ध जीतने मे कुछ ये परेशानी आती है तो मानसिकता मजबूत करने मे अभिप्रेरक की भुमिका की आवश्यकता है ।

-डाॅ भावना शर्मा

NewsQues India is Bilingual Indian daily e- Magazine. It is published in New Delhi by NewsQues India Group. The tagline of NewsQues India is " Read News, Ask Questions".

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *