जो बाइडन ने म्यामांर में नागरिकों की हत्या को बताया क्रूरता

Facebook
Google+
https://newsquesindia.com/%E0%A4%9C%E0%A5%8B-%E0%A4%AC%E0%A4%BE%E0%A4%87%E0%A4%A1%E0%A4%A8-%E0%A4%A8%E0%A5%87-%E0%A4%AE%E0%A5%8D%E0%A4%AF%E0%A4%BE%E0%A4%AE%E0%A4%BE%E0%A4%82%E0%A4%B0-%E0%A4%AE%E0%A5%87%E0%A4%82-%E0%A4%A8">
Twitter
YOUTUBE
PINTEREST
LinkedIn
INSTAGRAM
SOCIALICON

नई दिल्ली। अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन (US president joe bilden)ने म्यांमार में सुरक्षा बलों द्वारा तख्तापलट के खिलाफ प्रदर्शन में शामिल नागरिकों की हत्या पर कड़ी नाराजगी जाहिर की है। बाइडन ने रविवार को कहा,यह भयावह है। यह पूरी तरह क्रूरता है। और मुझे जो खबर मिली है उसके मुताबिक काफी संख्या में लोगों को बेवजह मारा गया है। वह म्यांमार में सैन्य तख्तापलट के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे निर्दोष लोगों के खिलाफ सैनिकों द्वारा बल प्रयोग किये जाने और इस दौरान हाल में लोगों की हत्या के संदर्भ में बोल रहे थे।
सदन की विदेश मामलों की समिति के प्रमुख सांसद ग्रेगरी मीक्स ने कहा कि म्यांमार के राष्ट्रीय सशस्त्र बल दिवस पर शनिवार को 100 से ज्यादा लोगों की जान गई और यांगून में अमेरिकी केंद्र पर गोलियां दागी गईं। इस घटना की जांच की जा रही है। उन्होंने बताया कि,बर्मी सेना ने देश के राष्ट्रीय सशस्त्र बल दिवस पर बेतुका और बर्बर रुख अपनाया और सैकड़ों लोगों की जान ले ली। यह जुंटा द्वारा अवैध सैन्य तख्ता पलट के बाद सबसे रक्तरंजित दिन था।
उल्लेखनीय है कि म्यांमार में सेना ने 1 फरवरी को तख्तापलट किया और देश की शीर्ष नेता आंग सान सू ची (Aung San Suu Kyi) समेत कई नेताओं को हिरासत में ले लिया।मीडिया की खबरों के अनुसार,सेना के स्वामित्व वाले टेलीविजन चैनल‘मयावाडी टीवी’पर सोमवार (एक फरवरी) सुबह यह घोषणा की गई कि सेना ने एक साल के लिए देश का नियंत्रण अपने हाथ में ले लिया है। सेना ने कहा है कि सरकार पिछले साल हुए चुनाव में धांधली के आरोपों की जांच करने में नाकाम रही,जिस वजह से सेना को दखल देना पड़ा। इस चुनाव में सूची की नेशनल लीग फॉर डेमोक्रेसी पार्टी की जबर्दस्त जीत हुई थी। हालांकि,चुनाव आयोग ने किसी भी धांधली से इनकार किया है। सेना के इस कदम के खिलाफ म्यांमार में पाबंदियों के बावजूद बड़े पैमाने पर लोग सड़कों पर उतर रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *