क्विटलाइन तम्बाकू की लत से पीड़ित व्यक्तियों के लिए आशा की किरण

Facebook
Google+
https://newsquesindia.com/%E0%A4%95%E0%A5%8D%E0%A4%B5%E0%A4%BF%E0%A4%9F%E0%A4%B2%E0%A4%BE%E0%A4%87%E0%A4%A8-%E0%A4%A4%E0%A4%AE%E0%A5%8D%E0%A4%AC%E0%A4%BE%E0%A4%95%E0%A5%82-%E0%A4%95%E0%A5%80-%E0%A4%B2%E0%A4%A4-%E0%A4%B8">
Twitter
YOUTUBE
PINTEREST
LinkedIn
INSTAGRAM
SOCIALICON

कोरोना की तरह ही तंबाकू भी एक वायरस नुमा दुश्मन है जो देश में रोकी जा सकने वाली मौत का सबसे बड़ा कारण है। स्वास्थ्य विशेषज्ञों तथा सलाहकारों का मानना है कि कोरोना महामारी तंबाकू सेवन करने वाले लोगों के लिए जीवन में एक बार आने वाला अवसर है जब वे इस संकट को अवसर बना कर अपनी इस लत से हमेशा के लिए मुक्ति पा सकते हैं । कोरोना संकट जहाँ एक ओर कई लोगों के लिए काल बन कर आया है वहीं ये उन लोगों के लिए वरदान साबित हो रहा है जो तंबाकू छोडना चाहते हैं।

क्विट लाइन सेवा सरकार द्वारा शुरू की गई एक निःशुल्क टेलीफ़ोन सेवा है जो तंबाकू उपभोगकर्ता को तंबाकू सेवन छोड़ने मदद करती है ।तंबाकू छोड़ने के लिए एकमात्र उद्देश्य के साथ तम्बाकू क्विटलाइन सेवाओं को चालु किया गया था जो की तम्बाकू छोड़ने के लिए भारत और अधिकांश विकसित देशों में मुफ्त उपलब्ध है। भारत राष्ट्रीय स्तर के तंबाकू छोड़ने की सेवा के साथ अंतर्राष्ट्रीय तंबाकू निषेध आंदोलन में भी शामिल है।

तम्बाकू उपयोगकर्ता NTQLS( नेशनल टोबेको क्विटलाइन सर्विसेस ) सक्रिय कॉल प्राप्त करने के लिए NTQLS टोल-फ्री नंबर पर कॉल करते हैं। प्रोएक्टिव कॉल्स को तारीख के अनुसार सेट किया जाता है। पंजीकृत व्यक्तियों को उनके तम्बाकू उपयोग, इतिहास और व्यक्तिगत जानकारी जैसे नाम, आयु, पता और अन्य जनसांख्यिकीय डेटा के बारे में विवरण प्रस्तुत करने की आवश्यकता होती है।

तंबाकू की लत को रोकने के लिए वैश्विक अभियान में क्विटलाइन अवधारणा कोई नई अवधारणा नहीं है। क्विटलाइन का विकास और परीक्षण यूरोप और संयुक्त राज्य अमेरिका में 1980 के दशक की शुरुआत में उन देशों में मौजूदा समाप्ति कार्यक्रमों की सूचना के प्रसार के लिए कई चुनौतियों को पार करने के प्रयास में शुरू किया गया था। वर्ष 2016 में, भारत सरकार ने “वर्ल्ड नो टोबैको डे” की पूर्व संध्या पर अपनी पहली राष्ट्रीय तंबाकू छोड़ने की सेवा शुरू की। यह नि: शुल्क सेवा अंग्रेजी और हिंदी में उपलब्ध हैI इसका उपयोग सभी तंबाकू उपयोगकर्ताओं, तम्बाकू उपयोगकर्ताओं के मित्रों और परिवारों और यहां तक कि चिकित्सकों द्वारा रोगियों को तम्बाकू छोड़ने के लिए सूचना, सलाह, सहायता और रेफरल देने के लिए उपयोग किया जाता है।

NTQLS की सेवाएँ तंबाकू उपयोगकर्ता के लिए किसी भी समय, किसी भी समय, कहीं से भी सुलभ हो सकती हैं। यह तम्बाकू के आदी व्यक्ति के तम्बाकू छोड़ने के प्रयासों को गोपनीय तरीके से प्रेरित करती है।

नेशनल टोबैको क्विटलाइन सर्विसेस को तम्बाकू उपयोगकर्ताओं को उनके सवालों के जवाब देने, छोड़ने की तारीख निर्धारित करने, व्यक्तिगत छोड़ने की योजना तैयार करने, और समर्पित टोल-फ्री नंबर 1800-11-2356 के माध्यम से छोड़ने के लिए डिज़ाइन किया गया है, जो की मंगलवार से रविवार प्रातः 8 बजे से साँय 8 बजे तक के बीच रोज़ाना किया जा सकता है। जब कॉल करने वाला व्यक्ति NTQLS के टोल-फ्री नंबर पर कॉल करता है तब कॉल पहले इंटरेक्टिव वॉयस रिस्पांस सिस्टम (आईवीआर) पर हिट होता है; इसके बाद, भाषा चयन (वर्तमान में अंग्रेजी और हिंदी) के अनुसार कॉल को अलग किया जाता है। यह सभी तंत्र प्राथमिक दर इंटरफ़ेस लाइन से गेटवे से सर्वर तक पावर से ईथरनेट स्विच तक जाता है और अंत में काउंसलर के इंटरनेट प्रोटोकॉल फोन पर आता है। इसी प्रकार राजस्थान के निवासियों हेतु टोल – फ्री नंबर 104 पर निःशुल्क परामर्श दिया जा कर आवश्यकता पड़ने पर दवा अथवा निकटतम अस्पताल की जानकारी भी दी जाती है । इसी प्रकार स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा विश्व स्वास्थ्य संगठन और अंतर्राष्ट्रीय दूरसंचार संघ के साथ साझेदारी में तंबाकू छुड़ाने में मदद हेतु मोबाइल तकनीक का उपयोग कर m – cessation सेवा शुरू की गई है जहाँ 011-22901701 पर मिस्ड कॉल कर रजिस्टर किया जाता है । इसमे तंबाकू छोड़ने वाले तथा विषय विशेषज्ञों के बीच दो तरफा वार्तालाप तथा मोबाइल SMS के माध्यम से संदेशों का आदान-प्रदान कर मार्गदर्शन दिया जाता है तथा जानकारी साझा की जाती है ।

जब भी कोई कॉलर मदद की आवश्यकता महसूस करता है,NTQLS प्रतिक्रियाशील और सक्रिय कॉल दोनों की अनुमति देता है। प्रतिक्रियात्मक कॉल में पंजीकरण, वर्तमान और पिछले तंबाकू का उपयोग इतिहास और विषयों के व्यक्तिगत विवरण और परामर्श सत्र (ओं) के बारे में होता है, । प्रोएक्टिव कॉल में तम्बाकू समाप्ति सेवा प्रदान करने के लिए चार आउटबाउंड कॉल शामिल हैं, जो आमतौर पर कॉलर के तंबाकू छोड़ने की स्थिति के आधार पर चार से आठ सप्ताह के भीतर पूरा होता है। यदि तंबाकू उपयोगकर्ता आने में सक्षम नहीं है, तो एक नई छुट्टी की तारीख निर्धारित की जाती है और सभी सक्रिय कॉल की प्रक्रिया पहले से जारी रहती है। पहली प्रोएक्टिव कॉल सेट की तारीख छोड़ने के 3-4 दिन पहले की जाती है, दूसरी डेट पर दूसरी प्रोएक्टिव कॉल, तीसरी डेट के 3-7 दिन बाद तीसरी प्रोएक्टिव कॉल और तीसरी प्रोएक्टिव कॉल डेट के 1-3 सप्ताह बाद चौथी प्रोएक्टिव कॉल होती है।

परामर्श एक प्रशिक्षित तंबाकू परामर्शदाता द्वारा प्रदान किया जाता है , जो की विशेष रूप से डब्ल्यूएचओ टेलीफोन परामर्श प्रोटोकॉल के बाद, प्रेरक साक्षात्कार के सैद्धांतिक और व्यावहारिक दृष्टिकोण में प्रशिक्षित किया गया होता है। इनमें लगभग 15 मिनट के काउंसलिंग सेशन की समयावधि में 5As (Ask, Advise, Assess, Assist and Arrange) 5Rs (Relevance, Risks, Rewards, Roadblocks, Repetition) शामिल हैं। इसके बाद, टेलिफोनिक आईवीआर परामर्श सत्रों को मध्यम (30 मिनट) और गहन परामर्श (30-40 मिनट) सत्रों तक बढ़ाया जाता है, जो तंबाकू उपयोगकर्ता की आवश्यकता पर निर्भर करता है। काउंसलिंग की गुणवत्ता और आश्वासन देने के लिए कॉल पर बातचीत की मॉनिटरिंग की जाती है I
अतः तम्बाकू क्विटलाइन हमारे देश के लिए तम्बाकू समाप्ति सेवाएं प्रदान करने का एक उपयुक्त और प्रभावी तरीका है I तंबाकू की लत के बढ़ते खतरे से निपटने एवं तंबाकू छुडवाने के लिए क्विटलाइन सेवा हमारे देश में मील का पत्थर साबित हो सकती है ।

– राजेश हिरन
मैनेजर एडवोकेसी,वाग्धारा, जयपुर
ई-मेल: rhiran@vaagdhara.org

NewsQues India is Bilingual Indian daily e- Magazine. It is published in New Delhi by NewsQues India Group. The tagline of NewsQues India is " Read News, Ask Questions".

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *