कोहरे में ड्राइविंग के दौरान इन 14 बातों का ध्यान रखें, नहीं होगा हादसा

Facebook
Google+
https://newsquesindia.com/%E0%A4%95%E0%A5%8B%E0%A4%B9%E0%A4%B0%E0%A5%87-%E0%A4%AE%E0%A5%87%E0%A4%82-%E0%A4%A1%E0%A5%8D%E0%A4%B0%E0%A4%BE%E0%A4%87%E0%A4%B5%E0%A4%BF%E0%A4%82%E0%A4%97-%E0%A4%95%E0%A5%87-%E0%A4%A6%E0%A5%8C">
Twitter
LinkedIn
INSTAGRAM
SOCIALICON

नई दिल्ली। सर्दियों के मौसम में में धुंध व घने कोहरे के बीच वाहन चलाने से वैसे तो हर कोई बचना चाहता है। लेकिन वाहन चलाना और गंतव्य तक पहुंचना मजबूरी भी है। घने कोहरे में सफर करना मुश्किल होने के साथ ही साथ बहुत जोखिम भरा भी है। कोहरे में वाहन चलाते समय होने वाली दुश्वारियों को खत्म तो नहीं किया जा सकता है। लेकिन सावधानी से सफर को सुरक्षित जरूर किया जा सकता है। वाहन चालक कोहरे के दौरान सतर्कता बरतें तो स्वयं सुरक्षित सफर करने के साथ दूसरों को भी सुरक्षित रख सकते हैं। कोहरे में कुछ बातों का ध्यान रखा जाए तो दुर्घटनाओं से काफी हद तक बचा जा सकता है। 
1-कोहरे में तेज गति से चलने का सीधा मतलब है कि आप जानबूझकर हादसे को निमंत्रण दे रहे हैं। कोहरे के दौरान निर्धारित से कम गति में ही वाहन चलाना बेहतर है। इससे भी जरूरी है कि आप अपनी लाइन में वाहन चलाएं। बार-बार लेन बदलने से पीछे से आने वाले वाहन चालक भ्रमित हो सकते हैं। जिस कारण हादसे की संभावना और बढ़ जाती है।
2- कोहरे में हेडलाइट हाई-बीम पर रखना आपके साथ-साथ सामने से आ रहे वाहन के लिए भी खतरनाक हो सकता है। हाई-बीम पर लाइट फैल जाती है। और कोहरे में वाहन चलाते समय हाई-बीम पर लाइट रखने से सामने कुछ भी दिखाई नहीं देगा। ऐसे में बेहतर है कि हेडलाइट को लो-बीम पर रखें। विशेष रूप से ऐसे मार्गों पर जहां डिवाइडर नही हो।
3-वैसे तो आजकल सभी कारों में पिछली विंडशील्ड पर भी डिफॉगर आने लगा है। कार के केबिन और बाहर के तापमान में अंतर होने के कारण शीशों पर धुंध की परत जमने लगती है। कोहरे में कार चलाने के दौरान डिफॉगर ऑन रखें। ये शीशे के तापमान को बढ़ा देते हैं। इस वजह से उन पर धुंध नहीं जमती। आगे वाले शीशों पर अंदर की तरफ से जमने वाली धुंध को कार के हीटर और एयर वेंटिलेशन मोड को बदलकर हटाया जा सकता है। इसके अलावा शीशा साफ करने के लिए कपड़ा साथ लेकर चलना भी अच्छा रहता है।
4- जब ज्यादा ठंड और कोहरे के बीच सड़क पर निकलें तो यह बात दिमाग में रखें कि ठंड की वजह से अक्सर टायर कठोर हो जाते हैं। और कोहरे की वजह से सड़के अक्सर गीली हो जाती है। ऐसे में तेज गती में वाहन को नियंत्रित करना बहुत चुनौतिपूर्ण होता है। इसके अलावा ऐसी परिस्थिति में अचानक ब्रेक लगाना तो और भी ज्यादा खतरनाक साबित हो सकता है। लिहाजा जब कोहरे में सड़क पर निकलें तो दूसरे वाहनों को बहुत तेज गति में ओवरटेक करने की कोशिश नहीं करनी चाहिए। ऐसा करना अक्सर दुर्घटना का कारण बनता है।
5-कोहरे में वाहनों में लगे फॉग लैंप सबसे अधिक मददगार साबित होते हैं। यह कार में आगे और पीछे दोनों तरफ लगे होते हैं। अगर आपकी कार में यह फीचर नहीं है। तो आप बाहर से भी फॉग लैंप लगवा सकते हैं। इससे सड़क पर दृश्यता बढती है।
6-घने कोहरे के दौरान सड़क गीली हो जाती है। दृश्यता कम होने के कारण से सही रास्ते का अनुमान लगाना भी बहुत मुश्किल हो जाता है। ऐसे में वाहन की गति तेज हो तो अचानक ब्रेक लगाने पर वाहन के फिसलने का खतरा बढ़ जाता है। बेहतर है कि जल्दबाजी किए बिना धीरे-धीरे और सावधानी से वाहन चलाया जाए।
7-कोहरे में कई बार छोटा सफर भी काफी अधिक समय में पूरा होता है। कोहरे की संभावना को देखते हुए जब भी सफर पर निकलें। तब अपने साथ पानी,खाने का कुछ सामान और कंबल जरूर रखें। रास्ता जाम होने या फिर कार खराब होने की स्थिति में यह सामान आपकी काफी सहायता करेगा।
8-कई बार बाहर का कोहरा कार के अंदर भी आने लगता है। इसलिए कार में हीटर चलाकर रखें। हीटर की हवा का फ्लो सामने वाले शीशे की तरफ रखें। इससे शीशे पर धुंध नहीं जमेगी और सामने की चीजें साफ दिखाई देगीं।
9-फोरलेन पर यात्र के दौरान टोल फ्री नंबर 1033 को जरूर याद रखें। किसी भी आपात स्थिति में यह नंबर आपकी बड़ी मदद करेगा। पहले हर क्षेत्र का टोल फ्री नंबर अलग-अलग नंबर होता था। जिसे याद रखना मुश्किल होता था। इसकी वजह से किसी भी दुर्घटना या परेशानी में मदद मांग पाना संभव नहीं हो पाता था। भारत सरकार ने 1033 नंबर जारी कर इस समस्या से निजात दिला दी है। पूरे भारत में कहीं भी फोरलेन पर कोई दुर्घटना होती है या किसी तरह की मदद की जरूरत होती है तो सिर्फ इस नंबर पर फोन करना होता है। थोड़ी-बहुत डिटेल मांग कर जीपीआरएस से आपकी लोकेशन पता कर ली जाती है और तत्काल स्थानीय टोल प्लाजा से एंबुलेंस व कर्मचारी मौके पर पहुंच जाते हैं। टोल से संबंधित शिकायत भी इस नंबर पर दर्ज कराई जा सकती है।
10-सड़कों के किनारे बनी सीमेंट या ईंटों की पटरी घने कोहरे में अच्छी गाइड साबित हो सकती है। जब सामने बिल्कुल न दिख रहा हो तो इस पटरी के साथ अपनी बायीं तरफ वाहन चलाना चाहिए। बिना डिवाइडर वाली सड़कों पर यह तरीका काफी मददगार साबित हो सकता है। इससे संभावित हादसे को टाला जा सकता है। सड़क किनारे बनी पेंट की पट्टी आपको सही रास्ते पर चलने में मदद करेगी।
11-सामान्य दिनों में वाहन चलाते समय लोग आगे चल रहे वाहनों से दूरी बनाए रखते हैं। लेकिन कोहरे के दौरान वाहनों के बीच की दूरी को बढ़ा देना चाहिए। अचानक से ब्रेक लेने की स्थिति या फिर आपात स्थिति में कार को मोड़ने के दौरान दुर्घटना से बचा जा सकता है। आगे चल रहे वाहन से बेहद कम दूरी कोहरे में अधिक खतरनाक साबित हो सकती है।
12-कोहरे के दौरान हजार्ड लाइट का इस्तेमाल न करें। इस वजह से पीछे वाले वाहन को आपकी सही स्थिति का पता नहीं चल पाएगा और लेन बदलने या मुड़ने के दौरान हादसा होने की संभावना बढ़ जाती है। इसका इस्तेमाल तभी करें जब आपकी कार रुकी हुई हो या फिर उसकी गति बहुत अधिक कम हो।
13-कोहरे के दौरान सड़क पर वाहन को रोकना दुर्घटना का कारण बन सकता है। बेहतर होगा कि अगर वाहन को कोहरे के दौरान कहीं रोकना पड़ता है। तो सड़क हटकर एकदम किनारे की तरफ रोकें। वाहन को रोकने के बाद पार्किंग और हजार्ड लाइट का प्रयोग करें। अगर कार बीच रास्ते में खराब हो गई है तो उसे जल्द से जल्द किनारे की तरफ ले जाएं। सेफ्टी किट में से रिफ्लेक्टर ट्राइएंगल निकाल कर उसे कार के पीछे कुछ दूरी पर रखें। सेफ्टी जैकेट साथ रखना भी अच्छा रहेगा, इसकी वजह से पीछे या सामने से आ रहे वाहन का चालक आपको दूर से देख लेगा।
14-वाहन चलाते समय आव्शयह है कि आपका पूरा ध्यान सड़क पर हो। ऐसे में जरूरी है कि आप मोबाइल फोन का प्रयोग बिलकुल न करें। हो सके तो कार में संगीत बजाने से भी परहेज करें,जिससे आपका ध्यान पूरी तरह से वाहन चलाने के दौरान सड़क पर केंद्रित हो। कार का शीशा थोड़ा नीचे करके चला जा सकता है। इससे दूसरे किसी वाहन के हार्न की आवाज या अन्य किसी प्रकार की चेतावनी की आवाज को आसानी से सुना जा सकता है।

कोहरा हमेशा सड़क पर नहीं होता है। ऐसा भी नहीं है कि आपको पूरे रास्ते कोहरा मिलेगा। ऐसे में जरूरी है कि जब आपका वाहन कोहरे वाले क्षेत्र में प्रवेश करता है तो कोहरे में प्रवेश करने से पहले वडस्क्रीन को क्लियर कर लें। मिरर को अच्छी तरह से साफ कर लें और अपने अनुसार सही भी कर लें। वाहन के वाइपर काम कर रहे हैं या नहीं,इसकी जांच जरूर कर लें।
कोहरे के दौरान एक पावरफुल टॉर्च हमेशा अपने साथ रखें। यह कोहरे में सिग्नल देने के काम आ सकता है। वहीं कार लाइट से आगे का दिख नहीं रहा हो तो आप टॉर्च की मदद भी ले सकते हैं।किसी कारण से अगर कार रोकनी पड़ती है तो वाहन को सड़क के सबसे किनारे खड़ा करें और वाहन के अंदर न बैठे। उससे कुछ दूरी पर खड़े हों।
कोहरे में सफर के दौरान अपने मोबाइल को फुल चार्ज रखें। हो सकता है कि जिस सफर को आप कुछ घंटों में पूरा करने के बारे में सोच रहे हैं। उसे पूरा करने मे जरूरत से काफी अधिक समय लग जाए। ऐसे में अपके मोबाइल की फुल बैटरी आपके लिए कारगर साबित होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *