कैंसर जैसी घातक बीमारी से बचने के लिए प्रत्येक व्यक्ति सात्विक प्रवृत्ति के साथ स्वस्थ जीवनशैली अपनाये- राजेश हिरन

Facebook
Google+
https://newsquesindia.com/%E0%A4%95%E0%A5%88%E0%A4%82%E0%A4%B8%E0%A4%B0-%E0%A4%9C%E0%A5%88%E0%A4%B8%E0%A5%80-%E0%A4%98%E0%A4%BE%E0%A4%A4%E0%A4%95-%E0%A4%AC%E0%A5%80%E0%A4%AE%E0%A4%BE%E0%A4%B0%E0%A5%80-%E0%A4%B8%E0%A5%87">
Twitter
YOUTUBE
PINTEREST
LinkedIn
INSTAGRAM
SOCIALICON

कैंसर की शुरुआती पहचान के बारे में जनता को जागरूक करने और प्रमुख कैंसर पैदा करने वाली जीवनशैली से बचाने के उद्देश्य से 2014 में राष्ट्रीय कैंसर जागरूकता दिवस की घोषणा के बाद इस दिवस पर सरकार द्वारा लोगों को मुफ्त स्क्रीनिंग के लिए सरकारी अस्पतालों, सीजीएचएस और नगरपालिका क्लीनिकों को रिपोर्ट करने के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा है।

जन साधारण को कैंसर से बचने के लिए और शुरुआती लक्षणों के बारे में जागरूकता पैदा करने के लिए सूचना पुस्तिकाओं का व्यापक रूप से प्रसार सरकार द्वारा किया जा रहा है ।
भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद द्वारा जारी हालिया रिपोर्ट के अनुसार देश में कुल कैंसर मरीजों में सर्वाधिक 27.1% कैंसर के मामले तंबाकू जनित हैं । तंबाकू का उपयोग 14 प्रकार के कैंसर को जन्म देता है । राजस्थान में तंबाकू जनित कैंसर तथा अन्य बीमारियों से हर साल 77, 000 लोग असमय काल के मुंह में जा रहे हैं।

राजस्थान में दिन प्रतिदिन बढ़ रही तंबाकू उत्पादों की लत से कैंसर के रोगियों की संख्या भी दिनों-दिन बढीती जा रही है। इसमें चबाने वाले तंबाकू उत्पादों का उपयोग प्रमुख है जिस कारण 90 प्रतिशत मुंह का कैंसर होता है।

स्कूलों व कॉलेजों के बाहर ही पान मसाला और अन्य तंबाकू उत्पाद बेचने वाली दुकानें के कारण बच्चों तथा युवाओं को ये उत्पाद आसानी से उपलब्ध हो रहे हैं । राज्य में तंबाकू नियंत्रण क़ानूनों के प्रभावी प्रवर्तन के अभाव में हर गली-नुक्कड़ पर सहज उपलब्ध तंबाकू पदार्थ कोढ़ में खाज साबित हो रहे हैं।

युवाओं तथा बच्चों को तंबाकू उपभोग से बचाने तथा तंबाकू का प्रचलन कम करने के उद्देश्य से नगर निकायों को तंबाकू विक्रेताओं के लिए एक लाइसेंसिंग प्रणाली विकसित करने के आदेशों पर अदिनांक तक कोई कार्यवाही नहीं की गई ।

तंबाकू व्यापारियों के लिए लाइसेंसिंग प्रणाली लागू किए जाने से नगर निकायों को राजस्व, बच्चों और युवाओं को अच्छी सेहत मिलने के साथ ही बच्चों तथा महिलाओं को द्वितीय क्रम धूम्रपान (second hand smoking) से होने वाली हानी तथा कैंसर जैसे दुष्प्रभाव से बचाया जा सकता है।

“ कैंसर जैसी घातक बीमारी से बचने के लिए प्रत्येक व्यक्ति को सात्विक प्रवृत्ति के साथ स्वस्थ जीवनशैली अपनानी चाहिए। शुद्ध आहार- व्यवहार तथा किसी भी प्रकार के नशे से दूरी कैंसर जैसी भयंकर बीमारी से बचाव है।

सरकार को भी तम्बाकू उत्पादों की बिक्री को लाइसेंसिंग के माध्यम से नियंत्रित कर लोगों को इस बीमारी से बचाने में प्रमुख भूमिका निभानी चाहिए । लाइसेंसिंग प्रणाली लागू होने से तंबाकू उत्पादों के उपभोग में कमी आएगी तथा भविष्य में कैंसर के मरीजों की गिनती भी कम होगी।

– राजेश हिरन, स्टेट पॉलिसी एडवोकेसी लीडर (स्वास्थ्य), वाग्धारा

NewsQues India is Bilingual Indian daily e- Magazine. It is published in New Delhi by NewsQues India Group. The tagline of NewsQues India is " Read News, Ask Questions".

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *