आज विश्व मौसम दिवस मनाया जा रहा है, क्या है इसके महत्व जानिए

Facebook
Google+
https://newsquesindia.com/%E0%A4%86%E0%A4%9C-%E0%A4%B5%E0%A4%BF%E0%A4%B6%E0%A5%8D%E0%A4%B5-%E0%A4%AE%E0%A5%8C%E0%A4%B8%E0%A4%AE-%E0%A4%A6%E0%A4%BF%E0%A4%B5%E0%A4%B8-%E0%A4%AE%E0%A4%A8%E0%A4%BE%E0%A4%AF%E0%A4%BE-%E0%A4%9C">
Twitter
YOUTUBE
PINTEREST
LinkedIn
INSTAGRAM
SOCIALICON

नई दिल्ली। आज दुनियाभर के मौसम में हो रहे बदलाव और आने वाले समय में मौसम के बदलते स्वरूप से होने वाले नुकसान से बचने के लिए मौसम के क्षेत्र में कई महत्वपूर्ण तकनीक विकसित की गई हैं। 23 मार्च को दुनियाभर में विश्व मौसम विज्ञान दिवस के रूप में मनाया जाता है। विश्व मौसम विज्ञान दिवस को मनाए जाने का मुख्य उद्देश्य मौसम में लगातार हो रहे बदलाव के प्रति लोगों को जागरूक करना है। विश्व मौसम संगठन की ओर से मौसम विज्ञान दिवस मनाए जाने में मुख्य योगदान रहा है। प्रत्येक साल विश्व मौसम विज्ञान दिवस के दिन विश्व मौसम संगठन एक नया विषय दुनिया के सामने लेकर आता है। विश्व मौसम विज्ञान संगठन ने इस साल का विषय महासागर,जलवायु और मौसम रखा है।
बता दें कि साल 1950 में विश्व मौसम विज्ञान संगठन की स्थापना की गई थी। विश्व मौसम विज्ञान संगठन का मुख्यालय जिनेवा,स्विटजरलैंड में है। कई देश विश्व मौसम विज्ञान संगठन के सदस्य हैं जो विश्व मौसम विज्ञान दिवस को विशेष रूप से मनाते हैं। इसके लिए कई प्रकार के आयोजन और कार्यक्रम का आयोजन किया जाता है। जिसमें मौसम के प्रति जागरूकता फैलाई जाती है।
फिलहाल दुनियाभर में 191 देश विश्व मौसम विज्ञान संगठन के सदस्य हैं। वहीं विश्व मौसम विज्ञान संगठन की सबस बड़ी जिम्मेदारी किसी भी प्राकृतिक आपदा की जानकारी पहले देना है। जिसमें बाढ़,भूकंप से लेकर वायुमंडल में होरहे बदलाव भी शामिल हैं। विश्व मौसम विज्ञान दिवस के दिन दुनियाभर में कई प्रकार की डिबेट का भी आयोजन किया जाता है। जिसमें तमाम वैज्ञानिक मिलकर अपने विचार एक-दूसरे के सामने रखते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *